आमतौर पर विदेश में रहने वाले लोगों को भारत आने के लिए वीजा की जरूरत पड़ती है। बिना वीजा के कोई भी व्यक्ति भारत में दाखिल नहीं हो सकता न हीं भारत का कोई व्यक्ति बिना वीजा के किसी देश में जा सकता है। परंतु आज हम आपको क्रिकेट जगत के एक ऐसे खिलाड़ी के बारे में बताने वाले हैं जिसे भारत आने के लिए किसी भी तरह की वीजा की कोई जरूरत नहीं पड़ती। अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर इस विदेशी खिलाड़ी को भारत आने के लिए किसी भी तरह की वीजा की जरूरत क्यों नहीं पड़ती। तो चलिए बताते हैं आपको इसके बारे में विस्तार से-

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जिस विदेशी खिलाड़ी को भारत आने के लिए किसी भी तरह की वीजा की जरूरत नहीं पड़ती वह खिलाड़ी कोई और नहीं बल्कि श्रीलंका टीम के स्पिन गेंदबाज मुथैया मुरलीधरन है। ऐसा बताया जाता है कि मुथैया मुरलीधरन को भारतीय सरकार के द्वारा एक ऐसी सुविधा उपलब्ध कराई गई है। जिसके मुताबिक वह बिना किसी वीजा के भारत में आ जा सकते हैं। भारत सरकार के द्वारा मुथैया मुरलीधरन को ओसीआई यानी प्रवासी नागरिकता भी प्रदान की गई है। जिसके कारण ही मुथैया मुरलीधरन को भारत आने के लिए किसी भी तरह की वीजा की कोई जरूरत नहीं पड़ती।

मुथैया मुरलीधरन से जुड़ी यह बात आप सभी लोगों में से बहुत ही कम लोगों को मालूम होगी कि मुथैया मुरलीधरन भले ही श्रीलंका की ओर से खेलते हुए नजर आते थे परंतु उनकी सभी यादें भारत से जुड़ी हुई है। आपकी जानकारी के लिए बता दे कि मुथैया मुरलीधरन का परिवार भारत का मूल निवासी है। इसके साथ ही साथ मुथैया मुरलीधरन ने अपनी शादी भी भारत की ही एक लड़की के साथ की है। आज लगभग 46 साल के हो चुके मुथैया मुरलीधरन ने अपना पहला अंतरराष्ट्रीय मैच 28 अगस्त 1992 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला था और उन्होंने अपना आखिरी टेस्ट मैच वर्ष 2010 में इंडिया के खिलाफ खेला।

12 अगस्त 1993 को टीम इंडिया के खिलाफ खेलते हुए अपने ODI कैरियर की शुरुआत करने वाले मुथैया मुरलीधरन ने 2 अप्रैल 2011 को भारत के खिलाफ अपना आखिरी ODI मैच खेला था। अगर बात T20 की करें तो वर्ष 2006 में मुथैया मुरलीधरन ने अपने T20 कैरियर की शुरुआत की थी। उन्होंने अपना पहला t20 मैच न्यूजीलैंड के खिलाफ खेला था। अपने पहले टी-20 मैच में खेलने के 4 साल बाद ही मुथैया मुरलीधरन ने 31 अक्टूबर 2010 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना आखिरी टी-20 मैच खेलकर अपने अंतरराष्ट्रीय T20 कैरियर को समाप्त कर लिया।

मैदान के ऊपर बल्लेबाजों के नाक में दम कर देने वाले स्पिन गेंदबाज मुथैया मुरलीधरन ने अपने क्रिकेट करियर में अब तक 800 से ज्यादा विकेट हासिल किए। सिर्फ वनडे मैच में ही मुथैया मुरलीधरन ने 534 विकेट अपने नाम किए। क्रिकेट के मैदान पर 800 से ज्यादा विकेट हासिल करने वाले मुथैया मुरलीधरन के नाम आज कई सारे रिकॉर्ड दर्ज हैं। इसके साथ ही साथ आज के दौर के कई गेंदबाज मुथैया मुरलीधरन को अपना आइडियल भी माना करते हैं और उनकी राह पर चलते हुए ही आज वह कामयाबी के शिखर पर पहुँचने करने की कोशिश कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here