वो कहते हैं ना कि जिसकी किस्मत में जो होता है उसे वो मिल ही जाता है। कई बार लोगों की किस्मत अच्छी होती है लेकिन भगवान लोगों की परीक्षा लेते हैं। जब समय आता है तो उन्हें उनकी मेहनत का फल मिल ही जाता है। समय इ पहले किसी को ना ही कुछ मिला है और ना ही कभी मिल पायेगा। जब जिसका समय आता है, उसे उसकी मेहनत के अनुसार फल भी मिल ही जाता है। आज के समय में इस तरह के कई उदहारण देखने को मिलते हैं।

आज हम आपको किस्मत की एक ऐसी ही घटना के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसके बारे में जानकर आप भी सोच में पड़ जायेंगे। जी हाँ यह घटना ही कुछ ऐसी है जो आपको हैरानी में दाल देगी। अगर हम आपसे कहें कि अगर किस्मत में हो तो व्यक्ति रातों-रात अमीर बन सकता है तो शायद ही आप हमारी इस बात पर यकीन करेंगे। लेकिन फिलिपींस में जो हुआ, उसके बारे में जानकर आपको हमारी बातों पर यकीन हो जायेगा। फिलिपींस में एक मछुआरे की किस्मत एक ही रात में बदल गयी।

बाद में पता चला यह पत्थर नहीं बल्कि है बेशकीमती मोती:

किस्मत ने ऐसी पलटी मारी की वह एक ही रात में अमीर बन गया। अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर ऐसा क्या हो गया कि वह एक ही रात में अमीर बन गया। आपकी जानकारी के लिए बता दें ऐसा किसी और चीज की वजह से नहीं बल्कि उसके पलंग के नीचे रखें एक पत्थर की वजह से संभव हुआ है। कई साल पहले मछुआरे को एक 34 किलो का पत्थर मिला था, जिसे वह साधारण पत्थर समझ रहा था। लेकिन बाद में उसे पता चला कि वो एक बहुमूल्य मोती है। प्राप्त जानकारी के अनुसार इस बहुमूल्य मोती की कीमत 670 करोड़ रूपये आंकी गयी है।

पत्थर को लकी चार्म समझकर ले गया घर:

सबसे हैरान करने वाली बात ये है कि मछुवारे के पास यह पत्थर आज से नहीं बल्कि पिछले 10 सालों से पड़ा हुआ था। दरअसल फिलिपींस के पलावन आइलैंड में रहने वाला एक मछुआरा 2006 में समुद्र में मछलियाँ पकड़ने गया हुआ था। लेकिन अचानक से समुद्र में तूफान आ गया। वह बीच समुद्र में ही फंस गया। उसे एक पत्थर दिखा, जिसके सहारे छुपकर उसने तूफान ख़त्म होने का इंतज़ार किया। जब तूफान ख़त्म हुआ तब उसे एक दो फीट का खुबसूरत पत्थर दिखाई दिया। चूँकि इसी पत्थर की वजह से मछुआरे की जान बची थी, तो उसने उसे लकी चार्म समझकर घर ले गया।

पर्ल ऑफ़ अल्लाह को मन जाता था सबसे बड़ा मोती:

मछुआरा पिछले 10 सालों से उस पत्थर को अपने बिस्तर के नीचे रखा हुआ था। एक दिन किसी वजह से मछुआरे के घर में आग लग गयी तब उसने पत्थर को बिस्तर के नीचे से निकाला। अचानक ही उस पत्थर पर एक टूरिस्ट ऑफिसर की नजर पड़ी। उसने मछुआरे को बताया कि यह कोई साधारण पत्थर नहीं है बल्कि यह एक बेशकीमती मोती है। जिसकी कीमत बाजार में लगभग 670 करोड़ रूपये आंकी गयी है। एक ही रात में उस पत्त्थर की वजह से मछुआरा अरबपति बन गया। यह बेशकीमती मोती 6.4 किलो के “पर्ल ऑफ़ अल्लाह” से भी ज्यादा बड़ा और वजनी है। आपको बता दें ‘पर्ल ऑफ़ अल्लाह’ को अब तक सबसे बड़ा मोती माना जाता था। इसकी कीमत लगभग 260 करोड़ रूपये बतायी जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here