हाल के दिनों में ही केरल में आई भयंकर बाढ़ के बाद सोशल मीडिया पर एक्टिव रहने वाले लोगों ने केरल में आई भयंकर बाढ़ के पीछे की वजह बताई। उन लोगों में से कुछ की माने तो केरल में रहने वाले लोगों के द्वारा बीफ का सेवन करने की वजह से बाढ़ जैसी भयंकर आपदा का सामना करना पड़ा। तो वहीं कुछ लोगों की माने तो सबरीमाला मंदिर के दरवाजे को महिलाओं के लिए खोल दिया जाने की वजह से यह समस्या उत्पन्न हुई। अलग-अलग लोगों के द्वारा इस बाढ़ के आने के पीछे की अलग-अलग वजह बताई जा रही है।

इसके साथ ही साथ लोग अपनी बातों को प्रूव करने के लिए तरह-तरह की तस्वीरें भी साझा कर रहे हैं। आज हम आपको कुछ ऐसे ही तस्वीरों की सच्चाई बताने वाले हैं जो कि लोगों के द्वारा सोशल मीडिया पर हाल के दिनों में काफी ज्यादा वायरल की गई थी। इन तस्वीरों को ही केरल में आई बाढ़ के पीछे की वजह बताई गयी थी।आपको बता दें कि इन दिनों सोशल मीडिया पर एक ऐसी तस्वीर लोगों के बीच वायरल हो रही है जिसमें बहुत सारे कुत्तों को सड़क पर मरा हुआ दिखाया गया है। इस तस्वीर के साथ कुछ शब्द भी लिखे गए हैं जो कि इस प्रकार है-

” याद है ना आप सभी को 2016 की वह घटना जब केरल में रहने वाले लोगों के द्वारा 40000 से भी ज्यादा संख्या में मासूम कुत्तों को तड़पा तड़पा कर मारा गया था। कुत्तों के तड़पा तड़पाकर मारे जाने के बावजूद किसी भी पशु प्रेमी संगठन ने इस बात को लेकर अपना विरोध दर्ज नहीं करवाया था। आज उसी का नतीजा है कि वहां रहने वाले लोग तड़प तड़प कर मर रहे हैं। उस वक्त जिन लोगों को कुत्ते मारने के एवज में सोने के सिक्के दिए जा रहे थे आज वही लोग भीख मांगने को मजबूर है।” सोशल मीडिया पर साझा किए जा रहे इस तस्वीर के साथ मैसेज को अब तक हजारों की संख्या में लोगों के द्वारा साझा किया जा चुका है।

जानकारी के मुताबिक वर्ष 2016 में केरल में रहने वाले आवारा कुत्तों के द्वारा 52000 इंसानो के काटने के मामले सामने आए थे। आवारा कुत्तों के द्वारा इंसानो के काटने की वजह से 4 लोगों की मौत की खबर भी आई थी। जिसके बाद केरल में रहने वाले लोगों के द्वारा आवारा कुत्तों को मारने का एक अभियान चलाया गया था जिसमें लगभग डेढ़ सौ की संख्या में कुत्तों के मारे जाने की खबर लोगों के बीच आई थी। परंतु हम आपको बता दें कि यह संख्या कोई अधिकारिक डाटा नहीं है। कुत्तों के मारे जाने की खबर जब सरकार और सुप्रीम कोर्ट तक पहुंची तो हो सुप्रीम कोर्ट ने इसके ऊपर रोक लगा दिया था।

ऐसा भी बताया जा रहा है कि सोशल मीडिया पर मरे हुए कुत्ते की जो तस्वीरें लोगों के बीच साझा की जा रही है उस तस्वीर का केरल से कोई लेना देना नहीं है। जानकारी के मुताबिक यह तस्वीरें पाकिस्तान के कराची की है। जहां वर्ष 2016 में कराची सरकार ने लगभग 700 की संख्या में आवारा कुत्तों को जहर देकर मार डाला था। इसके साथ ही साथ जिन तस्वीरों में कुत्ते को औजार से मारते हुए दिखाया गया है वह तस्वीरें बांग्लादेश की राजधानी ढाका की थी। वर्ष 2017 में बांग्लादेशी सरकार ने आवारा कुत्तों को पकड़ने के लिए एक अभियान चलाया था। उसी अभियान की यह तस्वीरें आज लोगों के बीच सोशल मीडिया पर काफी ज्यादा वायरल हो रही है। सोशल मीडिया पर वायरल होने वाली इन तस्वीरों का केरल से कोई लेना देना नहीं है। लोग आज अपनी मनगढ़ंत कहानियों के साथ तस्वीरों को सोशल मीडिया पर वायरल कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here