दुनिया में हर बात के पीछे एक वजह और लॉजिक होता है. बिल्कुल उसी तरह एक बात जो पूरी दुनिया के इंसानों में कॉमन है और वो ये है कि जब किसी का फोन आता है तो हम सबसे पहले ‘HELLO’ ही क्यों बोलते हैं ? ये आदत सिर्फ भारतीयों के अंदर ही नहीं बल्कि सभ देशों की अलग-अलग भाषाओं वाले भी करते हैं. फोन उठाकर सबसे पहले ‘हैलो’ ही क्यों बोलते हैं? इसके पीछे बहुत से वैज्ञानिकों ने रिसर्च किये, बहुत से लोगों ने कई किताबें छान मारी और बहुत से लोग तो आज भी कंफ्यूजन में हैं कि आखिर ऐसा होता क्यों है. ऐसा सिर्फ मोबाइल पर फोन आने पर नहीं होता है बल्कि लैंडलाइन की भी जब रिंग बोलती है तो यही होता है. आज के समय या जब से फोन की शुरुआत हुई तब से लोग फोन करते हैं तो हैलो बोलते हैं या किसी का फोन आता है तो हैलो बोलते हैं, मतलब दोनों तरफ से हैलो बोलने का प्रावधान कब और कहां से आया ?

जब आपके मोबाइल या लैंडलाइन की घंटी बजती है तो आपको सबसे पहले जो शब्द बोलते हैं वो होता है ‘हैलो’, जिसे क्यों बोला जाता है इसके बारे में बहुत समय तक किसी को भी पता नहीं था. हैलो के आदान-प्रदान के बाद ही आगे की बातें शुरू होती है, लेकिन क्या कभी आपने ये सोचा है कि फोन उठाते ही सबसे पहले Hello ही क्यों बोलते हैं? फिर वो मोबाइल फोन देश में आया हो या विदेश में. हेल्लो का आविष्कार लोगों के बीच में आपसी बातचीत बढ़ाने के लिए हुआ था. ये शब्द इतनी तेजी से कॉमन हो गया कि आज अलग-अलग भाषाओं वाले देश में भी इस शब्द का वैसे ही प्रयोग किया जाता है जैसे दूसरे देशों में होता है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि 21 नवम्बर, 1973 को पूरी दुनिया में ‘वर्ल्ड हेल्लो डे’ मनाया जाता है लेकिन आज वक्त के साथ-साथ लोग इसे भूल चुके हैं. ‘Hello’ का इस्तेमाल आज भी सभी जगह पर किया जाता है, दरअसल फोन पर हैलो बोलने की कहानी फोन के आविष्कारक ग्राहम बेल से जुड़ी है.

इन्होंने सिर्फ फोन का ही आविष्कार नहीं किया बल्कि फोन पर बात करने वाली भाषा का भी आविष्कार किया था. एक रिपोर्ट की मानें तो ग्राहम बेल की गर्लफ्रेंड का नाम ‘मार्गरेट हैलो’ था, जिनसे वे बहुत ज्यादा प्यार करते थे. ग्राहम अपन गर्लफ्रेंड को प्यार से हैलो कहते थे जो कि गर्लफ्रेंड का सरनेम था. जैसे ही उन्होंने फोन का सफल अविष्कार किया तो सबसे पहले उन्होंने ‘हैलो’ शब्द कहा वो इसलिए कि वे अपन गर्लफ्रेंड को पुकार रहे थे और उनका ऐसा करना सदियों की प्रथा बन गई.

एक समय था जब किसी को अपनी खबर पहुंचानी होती थी तब पत्र का प्रयोग किया जाता है फिर जाकर हफ्ते या 15 दिन पर लोगों की खबरें एक-दूसरे तक पहुंचती थी. मगर समय बदला और ग्राह्म बेल ने एक ऐसा अविष्कार किया कि लोगों की सारी समस्या खत्म हो गई. टेलीफोन का आविष्कार ग्राहम बेल ने 1876 में USA में किया, लेकिन कुछ इतिहासकारों का मानना ये भी है की टेलीफोन का अविष्कार Elisha Gray ने भी किया था. अब दुनिया के लगभग हर इंसान के पास अपना मोबाइल फोन है और वे आसानी से दूर रहते हुए भी अपने परिवार के करीब रहते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here