आजकल के समय में देखा जाए तो लोगों को चटपटी चीजें खाने का बहुत ही शौक है ज्यादातर फास्ट फूड और चटपटे स्नैक्स जैसे समोसे कचोरी से लेकर मोमोस तक मैदे से ही बनाए जाते हैं और शायद कोई व्यक्ति होगा जो इन सभी चीजों को खाना पसंद नहीं करता होगा जब लोगों को भूख लगती है तो वह स्नैक्स खा लेते हैं परंतु क्या आप लोगों ने कभी इस बात पर गौर किया है कि मैदे से बनी हुई चीजों का अगर आप सेवन करते हैं तो इससे आपकी सेहत पर क्या प्रभाव पड़ता है मैदे से बनी यह चीजें आपके स्वास्थ्य को कितना नुकसान पहुंचाती हैं अगर मैदे से बनी हुई चीजों का नियमित रूप से सेवन किया जाए तो इससे शरीर का इम्यून सिस्टम कमजोर पड़ जाता है जिसकी वजह से बार-बार बीमार होने की संभावना बढ़ जाती है।

अगर मैदा लंबे समय तक खाया जाए तो इससे कई साइड इफेक्ट होते हैं मैदा एक परिष्कृत गेहूं का आटा होता है मैदा बनाने के लिए गेहूं के ऊपरी छिलके को हटा दिया जाता है उसके पश्चात बचे हुए सफेद हिस्से को बारीक पीसकर मैदा बनाया जाता है जबकि सबसे ज्यादा न्यूट्रिएंट्स गेहूं के ऊपरी छिलके में ही पाया जाता है जो मैदा बनाते समय पूरी तरह से निकाल दिया जाता है जब गेहूं का छिलका हटा दिया जाता है तो मैदे में फाइबर बिल्कुल भी नहीं रहता है इसके पश्चात इसे बेंजोइल पेरोक्साइड ब्लीच किया जाता है जिससे इसको साफ और सफेद रंग दिया जाता है अगर आप मैदे से शरीर को होने वाले नुकसान के बारे में जान लेंगे तो आप मैदा खाना बिलकुल छोड़ देंगे आज हम आपको मैदा खाने से होने वाले नुकसान के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी देने जा रहे हैं।

आइए जानते हैं मैदा खाने से होने वाले नुकसान के बारे में

डायबिटीज का खतरा

अगर मैदे का सेवन किया जाए तो इससे शुगर लेवल तुरंत ही बढ़ जाता है क्योंकि इसमें बहुत अधिक मात्रा में हाई ग्लाइसेमिक इंडेक्स होता है अगर आप भी बहुत अधिक मैदे का सेवन करते हैं तो आपको बंद कर देना चाहिए।

वजन बढ़ाएं

मैदे में स्टार्च की मात्रा बहुत ज्यादा पाई जाती है इसलिए यदि इसका सेवन किया जाए तो इससे मोटापा बढ़ता है बहुत ज्यादा मैदे का सेवन करने से शरीर का वजन बढ़ना शुरू हो जाता है इतना ही नहीं इससे कोलेस्ट्रोल और ब्लड में ट्राइग्लिसराइड स्तर भी बढ़ जाता है यदि आप अपने मोटापे को लेकर सीरियस है तो मैदे का सेवन बंद कर देना चाहिए।

पेट की समस्या और फूड एलर्जी

मैदे का सेवन पेट के लिए अच्छा नहीं माना गया है क्योंकि मैदे में फाइबर बिल्कुल भी नहीं होता है इसलिए जब मैदे से बनी हुई चीजों का सेवन किया जाता है तो यह पूरी तरह से पचा नहीं पाता है सही से ना पचने की वजह से इसका कुछ हिस्सा आंतो में चिपक जाता है और कई तरह की बीमारियां उत्पन्न होने लगती हैं मैदे के सेवन से ज्यादातर कब्ज की समस्या आती है इससे फूड एलर्जी का भी खतरा होता है।

नोट:- हम आशा करते हैं कि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अवश्य पसंद आई होगी आप अपना सुझाव नीचे दिए हुए कमेंट बॉक्स में हमको दे सकते हैं आप अपना सहयोग हमारे साथ बनाए रखें हम आगे भी इसी प्रकार से जानने योग्य जानकारियां लेख के माध्यम से लाते रहेंगे धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here