पीरियड्स हर लड़की और औरत की एक आम समस्या है. किसी भी लड़की के माँ बनने के लिए पीरियड्स का आना अनिवार्य है. यह 10 से 11 साल की उम्र में आना शुरू हो जाते हैं और 45 से 55 वर्ष तक रहते हैं. लेकिन कईं बार कमजोरी या अन्य कारणों के चलते बहुत सी लड़कियों को अधिक ब्लीडिंग की समस्या से जूझना पड़ता है जिससे उन्हें दर्द भी अधिक रहता है. पीरियड्स में जरूरत से अधिक ब्लीडिंग होना या निश्चित समय से ज्यादा समय तक ब्लीडिंग रहना को अंग्रेजी भाषा में “मेनोरेजिया” कहा जाता है. आज के इस आर्टिकल में हम आपको पीरियड्स में होने वाली अधिक ब्लीडिंग और दर्द से बचने के लिए कुछ ऐसे घरेलू उपाय बताने जा रहे हैं, जिन्हें अपना कर आप पीरियड्स में भी चाइना मुक्त रह सकते हैं. तो चलिए जानते हैं उन उपायों के बारे में-

कोल्ड कॉम्प्रेस

यदि आपकी महावारी में भी आपको अधिक रक्तस्त्राव हो रहा है यानी अधिक ब्लीडिंग हो रही है तो आपको वर्ड कंप्रेसर का इस्तेमाल कर सकते हैं. कॉल कंप्रेसर को हिंदी में ठंडी सेठ भी कहा जाता है. इस कंप्रेसर के इस्तेमाल से वाहिकासंकीरन होगा, जिससे आपके रक्त स्राव कंट्रोल में रहेगा. इतना ही नहीं बल्कि इस ठंडे सेक्सी आपके पेट के निचले क्षेत्र का दर्द भी कम हो जाएगा. इसके लिए आप कुछ बर्फ के टुकड़े एक चोलिया में रख लें और उस तोलिए को अच्छे से बांध लें. अब संडे तो दीए को पेट के निचले हिस्से पर 15 से 20 मिनट तक रखें और फिर कुछ देर आराम से लेट जाएं. यदि जरूरत पड़े तो आप इस उपाय को हर 4 घंटे बाद अपना सकते हैं इससे आपका दर्द काबू में रहेगा और ब्लीडिंग भी ज्यादा नहीं होगी.

शिरा का सेवन

मासिक धर्म के दौरान शीरा सबसे अधिक प्रभावी उपाय है. सिरे में भारी मात्रा में आयरन उपलब्ध होता है जो कि लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन में मदद करता है साथ ही यह रक्त के थक्के को कम करता है और गर्भाशय की मांसपेशियों में होने वाले दर्द से हमें राहत दिलाता है. मासिक धर्म के दौरान शिरा का इस्तेमाल दो तरीकों से हो सकता है.

1. एक छोटी चम्मच शिरा को एक कप गर्म पानी या दूध में मिलाकर दिन में एक बार जरूर पिए.

2. इस शिरा के चम्मच को आप एक गिलास लेमनग्रास चाय में भी मिलाकर रात को सोने से पहले और सुबह उठने के बाद पी सकते हैं.

सेब का सिरका


अगर आप भी महावारी में ब्लीडिंग जरूरत से अधिक महसूस कर रही है तो सेब का सिरका आपके लिए रामबाण सिद्ध हो सकता है. दरअसल यह सिरका हमारे शरीर में विषैले तत्वों को बाहर निकालता है और हमारे हार्मोन का संतुलन बनाए रखता है साथ ही यह हमारी पेट दर्द, सिर दर्द और थकान का भी इलाज करता है. इसके लिए सबसे पहले एक या दो छोटी चम्मच कच्चा और विनाश ना सेब का सिरका एक गिलास पानी में मिला दे. अब इसको दिन में दो से तीन बार जरूर पीएं. पीने के कुछ ही मिनटों बाद आप दर्द और भारी ब्लीडिंग से राहत महसूस करेंगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here