इंसान का खान-पान ही तय करता है कि कौन कितना स्वस्थ्य रहेगा। जो पौष्टिक भोजन ग्रहण करते हैं, वह स्वस्थ्य तो रहते ही हैं साथ ही बीमारियों से भी बचे रहते हैं। इसके साथ ही वह ऊर्जा से भरपूर भी रहते हैं। हमारे किचन में ही कई ऐसी चीज़ें मौजूद हैं जिनके इस्तेमाल से कई रोगों को ठीक किया जा सकता है। ये चीज़ें बहुत ही सस्ते क़ीमत में मिल भी जाती हैं। आज हम आपको एक ऐसी ही चमत्कारी चीज़ के बारे में बताने जा रहे हैं जो हर घर के किचन में आसानी से पायी जाती है।

जी हाँ हम बात कर रहे हैं दाल की। लेकिन हम यहाँ किसी और चीज़ की नहीं बल्कि मूँग के दाल की बात कर रहे हैं। मूँग की दाल के बारे में कहा जाता है कि यह गुणों का ख़ज़ाना है। मूँग की दाल ही नहीं बल्कि इसका पानी भी कई बीमारियों को दूर रखता है। अगर आप मूँग की दाल का पानी रोज़ाना पीते हैं तो आप कई गम्भीर रोगों से बचे रह सकते हैं। जब शरीर में गंदगी या ज़हरीले तत्व होते हैं तो शरीर का भार अपने आप बढ़ जाता है।

ऐसे में सबसे ज़रूरी होता है शरीर की इस गंदगी और ज़हरीले तत्व को बाहर निकालना। अब सवाल उठता है कि शरीर की इस गंदगी को आख़िर कैसे बाहर निकाला जाए। आपकी जानकारी के लिए बता दें मूँग की दाल का पानी शरीर से ज़हरीले तत्वों को धीरे-धीरे बाहर निकालकर शरीर में इसकी उपस्थिति को कम करता है। इसके साथ ही यह वज़न भी नियंत्रित करता है। अगर आप लगातार मूँग की दाल का पानी पिएँगे तो आपको असर ख़ुद-ब-ख़ुद दिखाई देने लगेगा। इसी लिए तो इसे दालों की रानी का नाम दिया गया है।

क्या है मूँग की दाल में ख़ास:

*- मूँग की दाल में क्षार, फ़्लेवोनाइड्स पाया जाता है। यह शरीर को पोषण देने के साथ ही भारी मेटल जैसे पारा और शीशा को शरीर से बाहर निकालता है।

*- मूँग की दाल में भारी मात्रा में अल्कलाइन मिनरल जैसे कैल्शियम, मैग्निशियम, पोटैशियम और सोडियम पाया जाता है।

*- मूँग की दाल में विटामिन सी, कार्ब्स और प्रोटीन के साथ ही डायटरी फ़ाइबर पाया जाता है। इसका ग्लायसेमिक इंडेक्स भी काफ़ी कम होता है।

*- एक लीटर पानी में अगर दो मुट्ठी मूँग की दाल गलाकर रखी है तो यह आपको भरपूर ताक़त देगी। मूँग की दाल के साथ दूध, दही, चीज़ का सेवन हानिकारक होता है। हालाँकि इसके साथ घी का सेवन किया जा सकता है।

*- इसका पानी बॉडी हीट को भी नियंत्रित करता है। मूँग की दाल का सेवन करने से उमस की वजह से होने वाली बेचैनी भी नहीं होती है। इससे व्यक्ति बीमार होने से बचा रहता है।

*- मूँग की दाल एकमात्र ऐसी दाल है, जिसे फ्रिज में रखने पर भी इसकी गुणवत्ता में कोई असर नहीं पड़ता है।

*- मूँग की दाल का सेवन करने से लिवर, गॉल ब्लैडर और ख़ून साफ़ होता है। शरीर में जमें ज़हरीले तत्वों को बाहर निकालकर शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है।

*- पसीने की वजह से इम्यून सिस्टम गड़बड़ता है लेकिन मूँग की दाल ऐसा नहीं होने देती है। हल्की होने की वजह से इसे आसानी से पचाया जा सकता है। इसका दिमाग़ और शरीर दोनो पर अच्छा प्रभाव पड़ता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here