धनतेरस का त्यौहार इस साल 5 नवंबर को पड़ रहा है। इसी दिन भगवान धनवंतरी का जन्म हुआ था। भगवान धनवंतरी को पहला चिकित्सक मानते हैं। उनकी कृपा से रोग दूर होते हैं औऱ साथ ही घर में खुशियां आती हैं। इस दिन वह पात्रों के साथ प्रकट हुए थे इसलिए धनतेरस के दिन बर्तन खरीदने की परंपरा है। ऐसा माना जाता है कि धनतेरस के दिन सोना , चांदी या बड़े उपकरण खरीदने से घर में संप्रुभता और बरकत आती है। हांलाकि धनतेरस की खरीदारी में भी कुछ बातों का ध्यान रखना बहुत जरुरी है। भूलकर भी इन सामानों को ना खरीदें नहीं तो मां लक्ष्मी और धनवंतरी भगवान दोनों रुष्ट हो जाएंगे।

लोहा

जहां धनतेरस के दिन सोना, चांदी और जेवरात के साथ साथ बरतन खरीदे जाते हैं वहीं भूलकर भी लोहा नहीं खरीदना चाहिए। लोहा का बरतन धनतेरस के दिन खरीदना शुभ नहीं माना जाता है। अगर आप को लोहे के सामान की जरुरत है तो एक दिन पहले ही खरीद लें या फिर अगले दिन खरीदें। भरसक प्रयास करें की धनतेरस के दिन लोहे का सामान ना खरीदें।

खाली बर्तन

वैसे जब आप खरीदादीर करने जाएंगे तो आपकसो खाली बर्तन ही मिलेगा, लेकिन खाली बर्तन घर में लाना अशुभ माना जाता है। घर तक खाली बर्तन लाएं भी तो घर में प्रवेश करने से पहले उसमें पानी या अनाज भर लें और तब घर में प्रवेश करें। इससे साल भर तक आपके घर में अनाज की कमी नहीं होगी। खाली बर्तन खरीद के लाया हुआ घर में ना लाएं। उसमें पहले कुछ भर लें तब अंदर लाएं।

स्टील

धनतेरस के दिन सबसे शुभ सोना या चांदी खरीदना माना जाता है, लेकिन अगर ऐसा आपके सामर्थ्य के बाहर हो तो भी स्टील का सामान ना खरीदें। स्टीलके बर्तन को भी लोहा का एक रुप मानते हैं। धनतेरस के दिन स्टील का बरतन ना खरीदें। अगर कुछ हल्का खरीदना हो तो कॉपर या ब्रॉन्ज का सामान खरीदना चाहिए।

काला रंग

काले रंग को दुर्भाग्य का प्रतीक माना जाता है। आप आम दिनों में खुलकर काले रंग के वस्त्र का इस्तेमाल कर सकते हैं, लेकिन धनतेरस के दिन काले रंग की वस्तुएं ना खरीदें। भूलकर भी काले रंग का कपड़ा ना खरीदे और ना ही पहनें। इस दिन सुनहरा, लाल, पिला या कोई भी अन्य रंग के कपड़े या सामान खरीद सकते हैं।

धारी का सामान

धनतेरस एक बहुत ही शुभ त्यौहार माना जाता है। इस दिन चाकी, कैंची, पिलास जैसे हथियार नहीं खरीदना चाहिए। यह सामान भले ही किचन में या आपके दूसरे काम में इस्तेमाल होते हैं, लेकिन इस दिन धारदार हथियार की खरीददारी नहीं करनी चाहिए।

कार

यह जानकर आपको अंचभा लग सकता है कि धनतेरस के दिन कार लेना भी शुभ नहीं माना जाता है।  बहुत से लोग धनतेरस के दिन ही कार लेना पसंद करते हैं। अगर आप भी कार लेने की योजना बना रहे हैं तो पहले ही भुगतान कर दें और तब घर में कार लाएं।

तेल

धनतेरस के दिन से ही दिए निकालने की प्रथा शुरु होती है, लेकिन इस दिन घी या तेल नहीं लाना चाहिए। धनतेरस पर दिये जलाने के लिए अगर तेल या घी की जरुरत हो तो पहले ही खरीददारी कर लें।

तोहफा

धनतेरस के दिन उपहार यानी तोहफा देना भी गलत माना जाता है। आप दीवाली के दिन अपने प्रियजनों औऱ रिश्तेदारों को तोहफा दे सकते हैं, लेकिन धनतेरस के दिन तोहफा देने का मतलब होता है आप लक्ष्मी को दूसरे के घर दे रहे हैं।

यह भी पढ़ें: धनतेरस तक बनना चाहते हैं अमीर तो कर लें इन 10 उपायों में से कोई एक उपाय

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here